बिहार BJP में बागियों की लिस्ट हुई लंबी, 3 और नेता निष्कासित, अब तक 30 पर हुई कार्रवाई

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने छपरा और सिवान के 2 नेताओं को 6 साल के लिए निष्कासित किया है.

पटना: बीजेपी में अपने बागी नेताओं पर कार्रवाई जारी है, पार्टी ने शुक्रवार को फिर से 3 नेताओं को निष्कासित कर दिया है. जिन 3 नेताओं को पार्टी ने निकाला है, उनपर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है. इन्हें 6 सालों के लिए निष्कासित किया गया है. इसके साथ ही पार्टी की ओर से बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के दौरान बाहर किये गए नेताओं की कुल संख्या 30 हो गयी है.

इन नेताओं को किया गया है बर्खास्त :

    रामानंद राम, पूर्व विधायक, बखरी (बेगूसराय)
    कामेश्वर सिंह मुन्ना, एकमा (छपरा)
    डॉ. देवरंजन सिंह, महराजगंज (सीवान)

3 नेताओं को किया गया निष्कासित

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने छपरा और सिवान के दो नेताओं को 6 साल के लिए निष्कासित किया है. छपरा के एकमा से चुनाव लड़ रहे कामेश्वर सिंह मुन्ना को पार्टी ने बर्खास्त कर दिया है. वहीं सिवान के महाराजगंज से देव रंजन सिंह जो पूर्व विधायक हैं, उन्हें भी 6 साल के लिए निष्कासित किया गया है. बखरी के पूर्व विधायक रामानंद राम को भी बगावत कर चुनाव लड़ने पर निष्काषित किया गया है.

बागियों की हो रही लंबी लिस्ट
बता दें कि बीजेपी में धीरे-धीरे बागियों की लिस्ट लंबी होती जा रही है. शुक्रवार की कार्रवाई के पहले बीते 5 दिनों में पार्टी अपने 9 नेताओं को निष्कासित कर चुकी है. 4 दिन पहले ही पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर 6 नेताओं को पार्टी से निलंबित कर दिया था. इनमें 2 विधायक शत्रुघ्न तिवारी उर्फ चोकर बाबा और व्यास देव प्रसाद समेत 3 पूर्व विधायक और एक पूर्व विधान पार्षद के नाम शामिल हैं. इससे पहले भी प्रथम चरण की सीटों पर बीजेपी ने 9 प्रमुख पार्टी नेताओं को बाहर का रास्ता दिखा दिया था. ये वो लोग हैं जिन्होंने एनडीए के घोषित उम्मीदवारों के खिलाफ चुनाव में उतरे है.