टीवी पर तो आपने देख लिया.. अब जानिए सीतामढ़ी, बिहार माता सीता की जन्मस्थली

शनिवार को दूरदर्शन पर चल रहे उत्तर रामायण सीरियल में सीता मैय्या के धरती की गोद में जाने वाले सीन ने लोगों को भावविभोर कर दिया। कहीं आंखों से आंसू निकले तो कहीं शोक तक मनाया गया। ऐसी ही एक जगह है माता सीता की जन्मस्थली.. पढ़िए यहां के बारे में

कोरोना काल में लोगों को कई तरह के कष्ट झेलने पड़ रहे हैं। लेकिन दूरदर्शन ने इसी कष्ट के दौरान लोगों का आर्यावर्त से जुड़े पौराणिक महत्व से भी परिचय कराया। इन्हीं में से एक है रामायण सीरियल... इसी की अगली कड़ी उत्तर रामायण में शनिवार के एपिसोड में सीता मैय्या धरती मां की गोद में वापस चली गईं। दूरदर्शन पर दिखाए जा रहे उत्तर रामायन के इस सीन ने करोड़ों लोगों को भावुक कर दिया है। सालों बाद रामायण और फिर उत्तर रामायण। देश के लोगों ने कभी सोचा भी नहीं था कि ये सीरियल कभी वापसी करेगा। काफी लोग ये जानते हैं कि सीता माता बिहार की बेटी थीं। उनके नाम पर एक धाम तक है। पढ़िए माता सीता के इस धाम की कहानी..

सीतामढ़ी- माता सीता की जन्मस्थली
सीतामढ़ी में एक मंदिर है जिसका नाम है पुनौराधाम मंदिर। इस पवित्र स्थल की चर्चा हमारे पुराणों तक में है ।पौराणिक मान्यता है कि विदेह के राजा जनक के राज्य में जब अकाल पड़ा था तब राजा जनक ने यहीं की पवित्र स्थल पर हल चलाया गया था। राज्य के पुरोहित ने राजा जनक को खेत में हल चलाने की सलाह दी थी। पुनौरा यानि इसी जगह राजा जनक ने खेत में हल जोता था। जब राजा जनक हल चला रहे थे तब जमीन से मिट्टी का एक पात्र निकला, जिसमें माता सीता शिशु अवस्था में थी।

कई ऐतिहासिक चीजें खींचती हैं लोगों का ध्यान
पुनौरा धाम में मंदिर के ठीक पीछे जानकी कुंड नाम का एक तालाब है। इस तालाब के बारे में मान्यता है कि इसमें स्नान करने से संतान की प्राप्ति होती है। यहां पंथ पाकार नाम की भी एक मशहूर जगह है। कहा जाता है कि पंथ पाकार माता सीता के विवाह से जुड़ी हुई है। इस जगह पर एक प्राचीन पीपल का पेड़ अभी भी विद्यमान है, जिसके नीचे पालकी बनी हुई है।

नेपाल से भी है माता सीता का संबंध
धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व के कई घरोहरों के लिए फेमस मिथिला क्षेत्र उत्तर बिहार के बड़े भूभाग में फैला हुआ है। साथ ही पड़ोसी देश नेपाल का एक बड़ा हिस्सा भी मैथिली संस्कृति से जुड़ा हुआ है। माना जाता है कि त्रेता युग में इसी क्षेत्र में माता सीता का जन्म हुआ था। माता सीता से जुड़ा ये क्षेत्र विश्व भर में प्रसिद्ध है। इस इलाके में ऐसे कई धार्मिक और ऐतिहासिक स्थल है, जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए। माना जाता है कि त्रेता युग में यह मिथिला की राजधानी थी। मां सीता के पिता महाराजा जनक यहां राज करते थे। भगवान राम की शादी सीता से यहीं हुई थी। नेपाल में स्थित जनकपुर हिंदुओं का बड़ा तीर्थस्थल भी है।